Wednesday, December 30, 2009

नव वर्ष !!


कुछ लफ्ज़ चुराए है
वक़्त की किताब से !
और कुछ लम्हे
गुजरे हुए ख्वाब से !!
अभी ढूंढ रहा हूँ
शायद खुद को
अपने ही किसी सवाल में
छुपे जवाब से !!
बीती सी बातों को
गुजरी सी रातों को
दोहरा रहा हूँ जैसे
बस अपने आप से !!
ये जिंदगी कुछ
नया पाने को चल दी है
और मुझको आखिर क्यों नहीं
इतनी जल्दी है ?
चारो तरफ ये शोर है
आने को नया दौर है
ये सोचकर होने लगे है
यादों के पन्ने ख़राब से !!
मैं बोना चाहता हूँ
नयी सोच अपनी उम्मीद में
पाना चाहता हूँ नयापन
दिल की मुरीद में
मैं तोलना नहीं चाहता
अपने लम्हों को, घडी से
जज्बा है नया तो सब है नया
मेरे हिसाब से !!


नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !!

16 comments:

श्यामल सुमन said...

बहुत खूबसूरत भाव और प्रवाह पारुल जी। वाह।

हौंसला टूटे कभी न स्वप्न भी देखो नया
जिन्दगी है इक हकीकत जिन्दगानी और है

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com

Gaurav Kant Goel said...

;) Happy New year to you too... Keep up the good work!!!

Dev said...

शब्दों और भावों की नयनाभिराम प्रविष्टि अत्यंत सराहनीय है

विनोद कुमार पांडेय said...

नयी सोच अपनी उम्मीद में
पाना चाहता हूँ नयापन..

सुंदर भावनाएँ निहित है आपकी इस रचना में...बढ़िया लगी....नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ..

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

aarya said...

सादर वन्दे
सुन्दर रचना
रत्नेश त्रिपाठी

Udan Tashtari said...

बढ़िया रचना!!

यह अत्यंत हर्ष का विषय है कि आप हिंदी में सार्थक लेखन कर रहे हैं।

हिन्दी के प्रसार एवं प्रचार में आपका योगदान सराहनीय है.

मेरी शुभकामनाएँ आपके साथ हैं.

नववर्ष में संकल्प लें कि आप नए लोगों को जोड़ेंगे एवं पुरानों को प्रोत्साहित करेंगे - यही हिंदी की सच्ची सेवा है।

निवेदन है कि नए लोगों को जोड़ें एवं पुरानों को प्रोत्साहित करें - यही हिंदी की सच्ची सेवा है।

वर्ष २०१० मे हर माह एक नया हिंदी चिट्ठा किसी नए व्यक्ति से भी शुरू करवाएँ और हिंदी चिट्ठों की संख्या बढ़ाने और विविधता प्रदान करने में योगदान करें।

आपका साधुवाद!!

नववर्ष की बहुत बधाई एवं अनेक शुभकामनाएँ!

समीर लाल
उड़न तश्तरी

अबयज़ ख़ान said...

बहुत शानदार पारुल... नया साल मुबारक हो..

Apanatva said...

nav varsh kee shubh kamnae .

पी.सी.गोदियाल said...

मैं तोलना नहीं चाहता
अपने लम्हों को, घडी से
जज्बा है नया तो सब है नया
मेरे हिसाब से !!
बहुत खूब, लाजबाब ! नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाये !

Parul said...

thanx 2 all of u....n...thanks to sameer sir for encouraging me...i wud try my best!

तिलक राज कपूर said...

अच्‍छी और स्‍पष्‍ट अभिव्‍यक्ति।
नव वर्ष की बधाई
तिलक राज कपूर

Ashish said...

Bahut Sundar... Bahut pyar ke sath. nav varsh ki bahut bahut subhkamnayen....

निर्झर'नीर said...

exceelent creation

Kulwant Happy said...

मैं सच में झूठ नहीं बोल रहा पारूल जी। बिल्कुल सही कह रहा हूँ। ये पुरस्कार तुम्हारा है, यकीन न आए तो खुद देख लो

Parul said...

so many thanx happy ji..glad to see myself there..thanx a lot :)