Thursday, December 18, 2008

एतबार !!



जिस तरह से ख्वाहिशों के मंजर उभरने लगे है
हम न जाने तुमसे क्यों डरने लगे है ?
कशमकश में है, किस तरह हो तुम से मुखातिब
रोज देखकर आइना सवंरने लगे है !!
ये भी मालूम नही क्या दिल की जुस्तजू है
वो कोई और है या की बस तू है
पर लगता है कभी जिंदगी तेरे रु-ब-रु है
इस कदर तुझ पे शायद हम मरने लगे है !!
तेरा अक्स लगने लगी है हर किताब
जो करती है मुझसे सवाल बेहिसाब
एक एक जवाब के लिए अब
बस हम तेरी आँखें पढने लगे है !!
बड़ी खूबसूरत हुई साजिश है
जिसमें शामिल तेरी कशिश है
कि हर कश में तुम्हे पाने को
हम आहें भरने लगे है !!
तन्हाई में तुमसे बातें करके
जिंदगी जीते है, हर लम्हा भरके
हमको भी अब यकीं होने लगा है
कि हम तुमसे प्यार करने लगे है !!

6 comments:

विनय said...

बहुत ख़ूबसूरत अंदाज़


-------------------
http://vinayprajapati.wordpress.com
http://www.vinayprajapati.co.cc
http://prajapativinay.blogspot.com

Zakir Ali 'Rajneesh' said...

रूमानी एहसास पर खूबसूरत कविता।

creativekona said...

Parulji,
Bahut hee komal bhavnaon bahut hee khoobsooratee ke sath likha hai apne.khas taur se antim panktiyan kafee dil ko chhoone valee hain Hardik badhai.
Hemant

Parul said...

thanx to all of u

amar said...

wha... kya romanticism hai !!!
wha wha ... bahut khoob :)

प्रशांत मलिक said...

तन्हाई में तुमसे बातें करके
जिंदगी जीते है, हर लम्हा भरके
हमको भी अब यकीं होने लगा है
कि हम तुमसे प्यार करने लगे है !!